अभी दान कीजिए
Donate Now

अध्यक्ष का संदेश

भारतवर्ष में महिलाओं की जनसंख्या दिन प्रतिदिन घटती जा रही है हालांकि अभी समय रहते इनकी विलुप्त होती आबादी को काबू में किया जा सकता है अन्यथा एक वक्त ऐसा आएगा जिसमें लिंग भेद को जनता के कारण एक अद्भुत विकराल स्थिति पैदा होगी जो समाज के लिए काफी सोचनीय एवं न नींद नियम है समाज में चारों तरफ अराजकता ही अराजकता होगी !

शिव गणेश सेवा संस्थान आपके समाज की एक ऐसी संस्था है जो महिलाओं की समस्याओं का हर तरह से समाधान करने का प्रयास करती है महिलाओं की उपेक्षा या शोषण कर कर के हम अपने देश को प्रगति के पथ पर नहीं ले जा सकते !

आज हमारे पिछड़ेपन का एक मुख्य कारण महिलाओं को समाज के मुख्यधारा से दूर रहेगा शिक्षा से वंचित रहना दहेज के कारण प्रताड़ित किया जाना भ्रूण हत्या स्त्री संतानों के पालन पोषण में चलती आ रही मत भिन्नता महिलाओं को आज भी घर की चारदीवारी में रहने को विवश किया जाना महिलाओं के साथ भेदभाव होना आदि समस्याओं के कारण आज भी सामाजिक स्तर पर बहुत जोर शोर से समस्या रहते जागरूकता शिक्षा का प्रचार प्रसार सरकारी कानूनों को तेजी से लागू करवाने की करवाई एवं महिलाओं के स्वास्थ्य एवं पौष्टिक आहार पर खास ध्यान देने की जरूरत महसूस की जाती है

शिव गणेश सेवा संस्थान कन्याओं महिलाओं में आत्मविश्वास एवं आत्मबल विकसित करने उनमें सोचने समझने एवं आत्मनिर्भरता ढंग से निर्णय लेने की क्षमता को प्रोत्साहन देने महिलाओं को शिक्षा के लिए जागरूकता करने महिला उद्योग के लिए प्रशिक्षण एवं आर्थिक स्वावलंबन के क्षेत्र में मजबूती प्रदान करने महिलाओं में स्वास्थ्य एवं निरोग जीवन के लिए एक ही सोच विकसित करने एवं महिला अधिकारों से संपादित कार्यक्रम के लिए क्रियाशील एवं प्रयासरत है !

यह यह अभियान शिव गणेश सेवा संस्थान के माध्यम से सुदूर ग्रामीण क्षेत्र उत्तर आपकी समस्याओं के निदान के लिए भी तत्पर है संस्थान अपने अनुभव के आधार पर कन्याओं का विवाह के समय विदाई सामग्री पहाड़ स्वरूप सामान दिया जाएगा संस्थान से जुड़ी महिलाओं अपने घर से एक ही सीधे तौर पर प्रशिक्षण प्राप्त कर आर्थिक रूप से सशक्त बन सकेगी !

तो आइए सामाजिक आर्थिक शारीरिक मानसिक और योन उत्पीड़न से रिचा पाने के लिए घरों एवं सामाजिक बंधन को तोड़ते हुए शिव गणेश सेवा संस्थान से जुड़कर कन्याओं महिलाओं के उत्पादन की नई दिशा में हमारे साथ चलें जहां पुरुषों से नारियों किसी भी मामले में कम नहीं कम ना अंकित जाए !

उन्हें उनका अधिकार प्राप्त हो आगे बढ़ उसे आर्थिक स्वावलंबन प्राप्त हो य अभिमान आपको हर मोड़ पर साथ देता रहेगा आपको यह जानकर अपार हर्ष होगा कि घरेलू हिंसा में कन्याओं महिलाओं को संरक्षण देते हुए सरकार ने कानून बनाई है जिसमें ना सिर्फ विवाहित महिलाओं बल्कि कुमारी कन्याओं को हर तरह से संरक्षण किया गया है !

शिव गणेश सेवा संस्थान में वर्तमान सामाजिक कुर्तियों से कन्याओं महिलाओं को बचने के लिए सार्थक कदम उठाए हैं जैसे

निर्धन कन्याओं को विवाह के समय आर्थिक सहायता प्रदान करना घरेलू हिंसा के शिकार कन्याओं महिलाओं को आर्थिक कानूनी एवं अन्य तरह से सहायता करना इसके अलावा कन्याओं का जन्म रजिस्ट्रेशन विकलांग प्रमाण पत्र रजिस्टर्ड विवाह आदि में भी मार्गदर्शन किया जाता है तथा उनके अंदर छिपे हुए प्रतिमा के अनुसार मार्गदर्शन देकर उन्हें स्वालंबन बनाने में सहायता दी जाती है आवश्यकता पड़ने पर अदालत से भी सहायता दी जाती है !

संस्थान द्वारा चलाए जा रहे हैं योजना में लाभ लेने हेतु कुंवारी कन्याओं का विधिवत रजिस्ट्रेशन करवाना होता है जिसके लिए प्रथम बार केवल ₹100 पंजीकरण शुल्क देना होता है पंजीकरण शुल्क किसी भी परिस्थिति में लौटाया नहीं जाएगा !

तथा प्रत्येक 6 महीने में ₹ 50 मात्र नवीकरण कराने हेतु देना होता है जिस कन्या का निबंधन संस्थान में होगी और प्रत्येक 6 माह में रिन्यूअल होगा में उन्हें ही संस्था से दिए जाने वाले लाभों से लाभान्वित किया जाएगा अन्यथा लाभ से वंचित हो जाएंगे क्योंकि आप लोगों के सहयोग से ही संस्थान अपने देश को पूरा कर सकती हैं !

अभिभावक गण इस बात का ध्यान अवश्य रखें ये की किसी कन्या का विवाह होने से 1 माह पहले कार्यालय में विवाह का सहायता फॉर्म एवं आवेदन पत्र कार्यालय में जमा कर प्राप्ति रसीद लेंगे ताकि उनके विवाह की व्यवस्था संस्था आसानी से कर सके तथा अनाथ असहाय विकलांग के लिए या संस्था सहयोग के लिए हमेशा तत्पर हैं !

  • 01 वर वधु का खोज दोनों पक्ष के अभिभावक को खुद ही करना होगा !
  • 02 वधू की उम्र 18 वर्ष से कम नहीं होना चाहिए वर्क उम्र 21 वर्ष से कम नहीं होना चाहिए प्रमाण पत्र संकलन करें !
  • 03 विवाह बिना दहेज के संपन्न होगी इसके लिए दोनों पक्षों को दहेज नहीं लेने का संबंधित शपथ पत्र देना होगा !
  • 04 विवाह में शामिल होने हेतु वर वधु को फोटो कार्यालय आकर विवाह किसी के एक माह पहले तक जमा कर देंगे अन्यथा बीमा में शामिल नहीं हो पाएंगे साथ ही हमारे संस्थान द्वारा विवाह समाज को खाना खिलाने की व्यवस्था है एवं वर-वधू का सम्मान एवं विदाई सामग्री प्रदूषक रजाई बेडशीट तकिया मच्छरदानी एवं अन्य वस्तुओं भी उपहार स्वरूप प्रदान की जाएगी कार्यक्रम में प्रशासनिक पदाधिकारी दान जनप्रतिनिधि मंत्री गण एवं समाजसेवी के द्वारा सभी वर वधू को आशीर्वाद भी जाएगी कोई कन्या है जिसके माता-पिता विवाह कराने में असमर्थ है तो इस सामूहिक विवाह में शामिल होकर हमें स्वागत करने का मौका दें एक दूसरे को जानकारी देकर यस का भागी बने हम अपने लक्ष्य को पूरा करने हेतु आपके सहयोग एवं मार्गदर्शन की अपेक्षा करते हैं इसके लिए संस्थान द्वारा सामूहिक विवाह का आयोजन किया जा रही है आप को आना अनिवार्य है सभी सुविधाएं पूर्णता निशुल्क है !

नोट -

सभी समाज सेवी बंधुओं को आग्रह है ! कि इस सामूहिक विवाह समारोह में अनाथ, विकलांग, निर्धन कन्याओं का विवाह कराया जाता है ! जो भी सज्जन मदद करना चाहते हैं या दान देने के इच्छुक हैं वह स्वेच्छा पूर्वक कृपया शिव गणेश सेवा संस्थान के नाम से बैंक ऑफ इंडिया के चालू खाता संख्या 44 8020 11 0000 276 आई एफ- एससी कोड :- वी. के. आई. डी. 00 0 4480 में जमा कर मदद करें और पुण्य का भागी बने

शिव गणेश सेवा संस्थान के द्वारा लड़कियों को अनुदान और सहायता

  • 01.- कन्याओं को विवाह के समय विदाई सामग्री उपहार स्वरूप समान दिया जाएगा !
  • 02.- कन्याओं के विवाह के समय जबरन दहेज मांगे जाने वाले जाने लोगों पर रोक लगाना तथा इससे उत्पन्न समस्याओं के प्रति लोगों को जागरूक करना !
  • 03.- कन्याओं कन्या बालिकाओं से संबंधित कल्याणकारी सरकारी योजना को करना !
  • 04.- बाल विवाह को नियंत्रण करना तथा भ्रूण हत्या पर रोक लगाना तथा उनके प्रति लोगों को जागरूक करना !
  • 05.- कन्याओं को व्यवसायिक परीक्षण देख कर आत्मनिर्भरता बनाना जैसे सिलाई कटाई कढ़ाई पेंटिंग कंप्यूटर आदि !
  • 06.- महिलाओं कन्याओं पर होने वाले अत्याचार पर रोक लगाना एवं उनके कानूनी सहायता प्रदान करना !
  • 07.-कन्याओं के माता-पिता को शादी के 1 माह पूर्व संस्थान के प्रधान कार्यालय में सूचित करना होगा !
  • 08.- कन्याओं का उम्र विवाह के लिए 18 वर्ष से ऊपर होना अनिवार्य है प्रमाण पत्र पुष्टि करें !

इन्हीं शुभकामनाओं के साथ

© 2018 Shiv Ganesh Seva Sansthan.